Navabharat – Hindi News Website
No Comments 15 Views

सरकारी स्कूलों के बंद होने पर केजरीवाल ने महाराष्ट्र सरकार की आलोचना की

औरंगागाद (महाराष्ट्र). दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी(आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि राज्य में सरकारी स्कूलों का बंद किया जाना छत्रपति शिवाजी, महाराज ज्योतिबा फुले और उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले के स्वप्नों का अनादर करने जैसा है. श्री केजरीवाल आज बुलढाना जिला के शिंदखेड राजा में छत्रपति शिवाजी महाराज की माँ जीजामाता की 419वें जन्मदिन पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद एक रैली को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि उन्हें आज साहसी जीजामाता का आशीर्वाद लेने का सौभाग्य मिला. महाराष्ट्र ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले जैसे लोगों की जमीन है जिन्होंने अपना पूरा जीवन शिक्षा देने में लगा दिया. भारत का पहला बच्चों का स्कूल इन महान लोगों ने शुरू किया लेकिन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार राज्य में कई स्कूलों को बंद कर दिया. सरकारी स्कूलों में और अधिक सुविधा उपलब्ध कराने के स्थान पर श्री फडनवीस और सरकारी स्कूलों को बंद करने पर तुले हुए हैं. श्री केजरीवाल ने मांग की है कि भाजपा को किसी पूंजीपति को सरकार चलाने के लिए दे देना चाहिए. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र की वर्तमान सरकार को पूंजीपतियों को चलाने के लिए दे देना चाहिए. उन्होंने दिल्ली सरकार का उदाहरण देते हुए कहा कि यह सरकार जनता की है और सरकार जनहित का काम करती है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने दिल्ली में 300 नये स्कूलों को शुरू किया है और इन स्कूलों में बच्चों को खेलने कूदने और अन्य आधुनिक सुविधाएं दी गयी हैं जिसका परिणाम यह हुआ कि निजी स्कूलों की अपेक्षा 10 प्रतिशत उन्नति हुयी है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में आप पार्टी ज्योतिबा और सावित्रीबाई फुले के सपनों को साकार कर रही है. दिल्ली में स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के सभी सरकारी अस्पतालों में सरकार ने समाज के सभी वर्गों के लिए मुफ्त उपचार प्रदान करना शुरू कर दिया है और आवश्यकता पड़ने पर मुफ्त सर्जरी भी की जाती है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में जनता को अन्य राज्यों की तुलना में सस्ते दर में बिजली उपलब्ध करायी जा रही है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top