Navabharat – Hindi News Website
No Comments 51 Views

लावा ने लाॅच किया पहला डिजाइन इन इंडिया फीचर फोन (₹ 1,499 )

नयी दिल्ली. मोबाइल फोन बनाने वाली भारतीय कंपनी लावा इंटरनेशनल ने वर्ष 2021 तक पूरी से भारत में निर्मित फोन लॉच करने के लिए देश में 250 करोड़ रुपये निवेश करने की घोषणा करते हुये पहला डिजाइन इन इंडिया फीचर फोन प्राइम एक्स उतारा है, जिसकी कीमत 1,499 रुपये है. संचार मंत्री मनोज सिन्हा, इलेक्ट्राॅनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद और कंपनी के ब्रांड अंबेसडर क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धोनी ने कल रात यहां आयोजित एक कार्यक्रम में लावा में भारत में डिजाइन इस पहले फीचर फोन लॉच किया जिसकी बिक्री आज से शुरू हो गयी है. इस मौके पर सिन्हा ने कहा कि मेक इन इंडिया का अगला कदम है डिजाइन इन इंडिया. डिजाइन इन इंडिया भारत की साॅफ्टवेयर शक्ति का बेहतर से तरीके से उपयोग कर सकेगा क्योंकि मोबाइल फोन में 60 प्रतिशत काम साफ्टवेयर का होता है. उन्होंने कहा कि लावा का डिजाइन इन इंडिया अभियान देश के आईटी उद्योग में आंदोलन का शुरूआती चरण है. प्रसाद ने कहा कि अर्थव्यवस्था के आकार के आधार पर भारत चीन को पीछे छोड़ने की दिशा में आगे बढ़ रहा है और लावा का डिजाइन इन इंडिया अभियान इसको गति देने वाला है क्योंकि एक भारतीय व्यक्ति अब तक चीन में मोबाइल फोन के डिजाइन और उत्पादन पर निवेश कर रहा था लेकिन अब वह अपने देश में डिजाइन इन इंडिया अभियान शुरू किया है जिसका अनुकरण दूसरी कंपनियां भी करेंगी. उन्होंने कहा कि तीन वर्ष पहले मात्र दो कंपनियां देश में मोबाइल फोन बना रही थी और अब उनकी संख्या बढ़कर 113 हो चुकी है और अभी सालाना 22.50 करोड़ मोबाइल फोन बन रहे हैं. कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक हरि ओम राय ने कहा कि लावा ने वर्ष 2021 तक पूरी तरह से स्वदेश निर्मित फोन लॉच करने के लक्ष्य के साथ 250 करोड़ रुपये की लागत से डिजाइल इन इंडिया अभियान शुरू किया है और उनकी कंपनी इस वर्ष अक्टूबर में पहला डिजाइन इन इंडिया स्मार्टफोन भी लॉच करने की तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा कि भारत की तुलना में चीन की अर्थव्यवस्था पांच छह गुना बढ़ी है लेकिन उसकी उत्पादन लागत भी भारत की तुलना में तीन गुना अधिक है. अभी भारत में विनिर्माण शुरू करने का सर्वश्रेष्ठ समय है. उन्होंने कहा कि भारत को निर्मित वस्तुओं और उसके कलपुर्जे के वैश्विक बाजार में करीब आधी हिस्सेदारी पर कब्जा करने का कोशिश करनी चाहिए. राय ने हालांकि कहा कि लावा को अभी डिजाइन इन इंडिया उत्पाद के लिए कलपुर्जे हासिल में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है. कंपनी के उत्पाद प्रमुख गौरव निगम ने कहा कि लावा अगले पांच छह वर्षाें में देश में 1.2 करोड़ मोबाइल फोन उत्पादन क्षमता विकसित करना चाहती है और चीन से डिजाइन को आयात करना बंद कर देगी. भारत में डिजाइन इन इंडिया अभियान के लिए कंपनी ने 30 इंजीनियरों को चीन स्थित अपने डिजाइन सेंटर में प्रशिक्षित किया है और अब वे सभी भारत में डिजाइन का काम कर रहे हैं. कंपनी ने वर्ष 2016 में नोएडा में डिजाइन सेंटर बनाया था. चीन के शेंझेन में भी कंपनी का शोध एवं विकास केन्द्र है जहां करीब 700 कर्मचारी काम कर रहे हैं.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top