Navabharat – Hindi News Website
No Comments 10 Views

लगातार सातवें दिन लुढ़का शेयर बाजार

मुंबई. दूरसंचार, आईटी तथा टेक, बैंकिंग एवं फाइनेंस के साथ ऑटो क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों में हुई बिकवाली के दबाव में आज घरेलू शेयर बाजारों में लगातार सातवें कारोबारी दिवस गिरावट रही. बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 113.23 अंक लुढ़ककर एक महीने से ज्यादा के न्यूनतम स्तर 34,082.71 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 21.55 प्रतिशत टूटकर 10,476.70 अंक पर बंद हुआ. इस साल 30 जनवरी से अब तक सात कारोबार दिवस के भीतर सेंसेक्स 2200.54 अंक और निफ्टी 10,476.70 अंक लुढ़क चुका है. मझौले तथा छोटे उद्योगों को ऋण अदायगी में रिजर्व बैंक द्वारा दी गयी राहत के कारण दिग्गज कंपनियों के सूचकांकों के विपरीत मझौली तथा छोटी कंपनियों में लिवाली ज्यादा हुई. बीएसई का मिडकैप 0.43 प्रतिशत चढ़कर 16,350.74 अंक पर और स्मॉलकैप 1.95 प्रतिशत की छलाँग लगाकर 17,731.63 अंक पर पहुँच गया. विकास एवं नियामक नीतियों पर रिजर्व बैंक के आज जारी बयान में कहा गया है कि वस्तु एवं सेवा कर के क्रियान्वयन में पिछले दिनों रही अस्थिरता के मद्देनजर जिन मझौले, छोटे तथा सूक्ष्म उद्योगों का 25 करोड़ रुपये तक का ऋण बकाया है और 31 अगस्त तक उनका खाता मानक खाता था, उन्हें 31 जनवरी तक के भुगतान के लिए छह महीने का अतिरिक्त समय दिया गया है. इस दौरान उनके ऋण खातों की श्रेणी को भी नीचे नहीं किया जायेगा. शेयर बाजार में सबसे ज्यादा दबाव दूरसंचार, आईटी, टेक, पूँजीगत वस्तुएँ, बैंकिंग और वित्त समूहों पर सबसे ज्यादा दबाव रहा. वहीं तेल एवं गैस तथा रियलिटी समूहों का सूचकांक सबसे ज्यादा चढ़ा. सेंसेक्स की कंपनियों में भारती एयरटेल के शेयर सर्वाधिक दो फीसदी चढ़े. विप्रो में भी करीब दो प्रतिशत की गिरावट रही. कोल इंडिया ने करीब ढाई प्रतिशत और ओएनजीसी ने भी दो प्रतिशत से अधिक का मुनाफा कमाया. सेंसेक्स में कुल 2,868 कंपनियों में कारोबार हुआ. इनमें 1,988 के शेयर बढ़त में और 786 के गिरावट में रहे जबकि 94 कंपनियों के शेयरों के भाव दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अपरिवर्तित रहे. बीएसई का सेंसेक्स 367.36 अंक की बढ़त के साथ 34,563.30 अंक पर खुला और खुलते ही 34,666.33 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया. लेकिन, बाद में दिग्गज कंपनियों में बिकवाली बढ़ी और दोपहर से पहले यह लाल निशान में आ गया. हालाँकि, कोल इंडिया और ओएनजीसी जैसी कंपनियों में हुई लिवाली से कुछ देर के लिए बाजार हरे निशान में भी लौटा, लेकिन वह वहाँ बरकरार नहीं रह पाया. अंतत: सेंसेक्स गत दिवस की तुलना में 0.33 प्रतिशत यानी 113.23 अंक गिरकर 34,082.71 अंक पर बंद हुआ. यह 04 जनवरी के बाद का इसका निचला स्तर है. कारोबार के दौरान सूचकांक का निचला स्तर 34,008.42 अंक रहा. निफ्टी 108.95 अंक चढ़कर 10,607.20 अंक पर खुला. कारोबार के दौरान इसका उच्चतम स्तर 10,614 अंक और निचला स्तर 10,446.40 अंक रहा. कारोबार की समाप्ति पर यह गत मंगलवार की तुलना में 0.21 फीसदी यानी 21.55 अंक नीचे 10,476.70 अंक पर बंद हुआ. निफ्टी की 50 में से 24 कंपनियाँ हरे और 26 लाल निशान में रहीं.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top