Navabharat – Hindi News Website
No Comments 5 Views

अमेरिका-चीन विवाद में शेयर बाजार धराशायी

मुम्बई. आयात शुल्क और बौद्धिक संपदा को लेकर अमेरिका और चीन के बीच शुरू हुए विवाद से हतोत्साहित निवेशकों की बिकवाली के दबाव में दुनिया भर के बाजारों के साथ ही आज घरेलू शेयर बाजार ने भी तेज बिकवाली हुयी. वैश्विक गिरावट और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया सहित आठ बैंकों में 1,400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की खबरों से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 409.73 अंक लुढ़ककर 33 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 32,596.54 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 116.70 अंक फिसलकर 10 हजार अंक के स्तर से नीचे 9,998.05 अंक पर बंद हुआ. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन से आयातित करीब 60 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने के ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर दिया है और चीन ने भी करारा जवाब देने की धमकी देते हुए अमेरिका के आयातित तीन अरब डॉलर के 128 उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने का प्रस्ताव रखा है. अमेरिका और चीन के बीच बढ़ रहे विवाद को देखते हुए निवेशकों का भरोसा जोखिम भरे निवेश में घट गया है और वे सुरक्षित निवेश की ओर रुख कर रहे हैं. अमेरिका और चीन जैसी आर्थिक महाशक्तियों की आंच अन्य देशों पर भी पड़ेगी जिससे दुनिया भर के बाजारों में खलबली मच गयी है. विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के बीच टोटम इंडस्ट्रीज द्वारा आठ बैंकों को लगभग 1,400 करोड़ रुपये का चूना लगाने की खबरों से बैंकिंग समूह के सूचकांक में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गयी. इसी दबाव में सेंसेक्स 355.38 अंक की गिरावट के साथ 32,650.89 अंक पर खुला और पूरे दिन 33,000 के आंकड़े को छू नहीं पाया. कारोबार के दौरान यह 32,720.03 अंक के उच्चतम और 32,483.84 अंक के निचले स्तर को छूता हुआ गत दिवस की तुलना में 1.24 प्रतिशत फिसलकर 32,596.54 अंक पर बंद हुआ. सेंसेक्स की मात्र छह कंपनियां हरे निशान में जगह बना पायीं. शेष 24 कंपनियां लाल निशान में रहीं. निफ्टी भी 29.25 अंक की गिरावट में 9,968.80 अंक पर खुला. कारोबार के दौरान 10,027.70 अंक के उच्चतम और 9,951.90 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 1.15 प्रतिशत की गिरावट में 9,951.90 अंक पर बंद हुआ. निफ्टी की एक कंपनी के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे जबकि 38 में गिरावट और 11 में तेजी रही. बीएसई में कुल 2,862 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 164 में कोई बदलाव नहंी हुआ जबकि 2,107 में गिरावट और 591 में तेजी रही. छोटी और मंझोली कंपनियों पर बिकवाली का अधिक दबाव रहा. बीएसई का मिडकैप 1.36 प्रतिशत यानी 216.57 अंक लुढ़ककर 15,694.11 अंक पर और स्मॉलकैप 1.54 प्रतिशत यानी 262.94 अंक की गिरावट में 16,801.18 अंक पर बंद हुआ. विदेशी बाजारों में गिरावट हावी रही. यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.82 और जर्मनी का डैक्स 1.89 प्रतिशत की गिरावट में खुला. एशियाई बाजारों में जापान का निक्की 4.51, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 3.18,चीन का शंघाई कंपोजिट 3.39 और हांगकांग का हैंगशैंग 2.45 प्रतिशत की गिरावट में रहा. बीएसई के 20 समूहों में से मात्र आईटी में 0.19 और टेक में 0.32 प्रतिशत की तेजी रही. सबसे अधिक गिरावट रिएल्टी समूह के सूचकांक में 3.31 प्रतिशत की रही. बैंकिंग में 2.08, बेसिक मैटेरियल्स में 2.17, वित्त में 1.73,ऊर्जा में 1.15,इंडस्ट्रियल्स में 1.30,तेल एवं गैस में 0.85 और स्वास्थ्य में 1.48 प्रतिशत की गिरावट रही. अन्य समूहों के सूचकांक भी लुढ़क गये. सेंसेक्स की 30 कंपनियों में छह में बढ़त रही. अदानी पोटर्स में सबसे अधिक 0.99, इंफोसिस में 0.75, पावर ग्रिड में 0.54, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 0.47,कोल इंडिया में 0.09 और एशियन पेंट्स में 0.03 प्रतिशत की तेजी रही. यस बैंक के शेयरों की कीमत में सर्वाधिक 3.87 प्रतिशत की गिरावट रही. एक्सिस बैंक के शेयरों के भाव 3.34, भारतीय स्टेट बैंक के 2.90, आईसीआईसीआई बैंक के 2.73, टाटा स्टील के 2.40, टाटा मोटर्स के 2.10, एल एंड टी के 2.07, बजाज ऑटो के 1.84, डॉ रेड्डीज 1.61, रिलायंस के 1.59, कोटक बैंक के 1.44, विप्रो के 1.40, एचडीएफसी के 1.29, एचडीएफसी बैंक के 1.25,सन फार्मा में 1.21, हीराे मोटोकॉर्प में 1.16, हिंदुस्तान यूनीलीवर्स के 1.09, मारुति के 1.01, भारती एयरटेल के 0.99, ओएनजीसी के 0.81,आईटीसी के 0.70,इंडसइंड बैंक के 0.50,टीसीएस के 0.48 और एनटीपीसी के 0.21 प्रतिशत लुढ़क गये.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top