पुलिस ने दर्ज किए मंत्री की बहू के पिता के बयान | Navabharat - Hindi News Website
Navabharat – Hindi News Website
No Comments 8 Views

पुलिस ने दर्ज किए मंत्री की बहू के पिता के बयान

भोपाल. मध्यप्रदेश के लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह की बहू प्रीति रघुवंशी की आत्महत्या के मामले में आज उसके पिता के बयान राजधानी भोपाल के महिला थाने में दर्ज किए गए. उसके परिजन के बयान कल देर रात हुए थे. प्रीति के पिता चंदन सिंह रघुवंशी की कल रात बयान दर्ज कराने के दौरान तबीयत बिगड़ गई थी. जिसके बाद उन्हें जेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सीने में तकलीक की शिकायत के बाद जेपी अस्पताल से उन्हें हमीदिया अस्पताल रैफर कर दिया गया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी सुबह लगभग साढ़े 11 बजे चंदन सिंह को देखने अस्पताल गए थे. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद चंदन सिंह दोपहर करीब एक बजे महिला थाने बयान देने के लिए आए. यहां उनके बयान दर्ज किए गए. प्रीति के पिता, मां रमा बाई, ताऊ राम सिंह रघुवंशी और चाचा जय सिंह रघुवंशी के बयान महिला थाने में दर्ज हुए हैं. चंदन सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि इंसाफ मांगने आया हूं. हमारे ऊपर बहुत दबाव है. कानून पर भरोसा है, लेकिन पुलिस से पहले मदद नहीं मिली. मंत्री सिंह, उनकी पत्नी और दोनों बेटों के कारण उनकी बेटी ने आत्महत्या की है. न्याय नहीं मिला, तो जो बेटी ने किया वह बाप करेगा. प्रीति के चचेरे भाई सौरभ रघुवंशी ने कहा कि अंतिम संस्कार के समय धार्मिक समझौता किया गया था. गिरजेश ने श्मशान में आकर पति की तरह पूरी रस्में की. न्यायिक समझौता नहीं किया गया है. जब तक न्याय नहीं मिलेगा, लड़ाई लड़ते रहेंगे. हम लोगों के ऊपर दबाव बनाया जा रहा है. सौरभ ही शुक्रवार दोपहर चंदन सिंह को महिला थाने लेकर पहुंचा था. यहां एक घंटे में बयान दर्ज होने के बाद वे सीधे कांग्रेस कार्यालय पहुंचे. यहां उन्हें भोजन कराया गया. शाम को सभी उदयपुरा रवाना हो गए. बयान दर्ज कराने के लिए रायसेन की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किरण केरकेट्टा और उदयपुरा के पुलिस अनुविभागीय अधिकारी (एसडीओपी) राजाराम साहू को कल राजधानी भोपाल बुलाया गया था. महिला थाने में कल रात नौ बजे के बाद प्रीति के परिजन के बयान दर्ज हुए और इसकी वीडियोग्राफी कराई गई. केरकेट्टा ने यूनीवार्ता को बताया कि परिजन ने जितने लोगों के नाम प्रस्तुत किए थे, सभी के बयान दर्ज किए गए हैं. अब फाेरेंसिक लैब की रिपोर्ट, हैंडराइटिंग विशेषज्ञ की रिपोर्ट समेत अन्य साक्ष्य एकत्रित किए जा रहे हैं. सभी साक्ष्यों की वरिष्ठ स्तर पर समीक्षा के बाद आगे जो भी निकलेगा, उसके आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी. इससे पहले प्रीति के परिजन ने कल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के साथ पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ऋषि कुमार शुक्ला से मुलाकात की थी. परिजन ने डीजीपी से कहा था कि उन्हें रायसेन पुलिस पर भरोसा नहीं है. वे भयभीत हैं और उन पर दबाव बनाया जा रहा है और इसीलिए वे वरिष्ठ अधिकारियों के सामने अपनी बात कहेंगे. इसके बाद शुक्ला ने उन्हें राजधानी भोपाल में ही महिला थाने में बयान दर्ज करने के लिए कहा. बताया जा रहा है कि प्रीति के परिजन ने कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी मदद मांगी है, जिसके बाद अब सिंधिया के 30 मार्च को रायसेन जिले के उदयपुरा में प्रीति के परिजन से मुलाकात करने की संभावना है. मंत्री सिंह की पुत्रवधू प्रीति रघुवंशी के रायसेन जिले स्थित उदयपुरा में अपने घर में फांसी लगाने के मुद्दे से प्रदेश में कई दिन से राजनीति गर्मायी हुई है. बताया जा रहा है कि मंत्री पुत्र गिरजेश ने कुछ महीने पहले प्रीति से राजधानी भोपाल में आर्य समाज मंदिर में शादी की थी. परिवार ने पिछले दिनों गिरजेश की सगाई कहीं और कर दी, जिससे व्यथित होकर प्रीति ने आत्महत्या कर ली. मंत्री सिंह ने पहले प्रीति को अपनी पुत्रवधू मानने से इनकार कर दिया, लेकिन गिरजेश के प्रीति के अस्थि संचय में शामिल होने के बाद इस मामले ने और तूल पकड़ लिया है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top