Navabharat – Hindi News Website
No Comments 8 Views

किसान ने खोजी फसल, सब्जी, फल-फूल की बीमारी की दवा

रोहतक. हरियाणा के चरखी दादरी जिले के कांहड़ा गांव के किसान धर्मेंद्र ने लगभग डेढ़ साल की मेहनत के बाद एक ऐसी दवाई तैयार की है जिसका प्रयोग कर फसलों, सब्जियों और फल-फूल को लगने वाली बीमारियों से निजात पाई जा सकती है. आज से यहां शुरू हुये तीसरे एग्री सम्मिट में पहुंचे धर्मेंद्र ने अपनी दवा को लेकर दावा किया कि इसके इस्तेमाल के बाद अब वह दिन दूर नहीं जब हरियाणा में भी काजू, बादाम, पिस्ता और सेब की खेती होने लगेगी. उसने बताया कि 2016 में उसने दवाई बनाने का कार्य यह सोच कर शुरू किया कि इसका इस्तेमाल हर फसल में हर रोग के लिए किया जा सके और परिणाम भी बेहतर हों और इसमें उसे सफलता भी मिली. धर्मेंद्र ने शुरूआत में अपने ही खेतों में दवा ‘अमृत‘ का इस्तेमाल किया. उसने बताया कि दवाई का किसी भी फसल, जैसे फल-फूल-सब्जी या अनाज में प्रयोग किया जा सकता है. इससे फसल में फल भी अच्छा आता है. बागवानी में इस दवा के इस्तेमाल से उत्पादन की गुणवत्ता में भी सुधार आता है. उसने बताया कि इस दवा को विभिन्न पेड़ों की पत्तियों और गौ मूत्र आदि से तैयार किया गया है. दवाई की 250 एमएल की एक बोतल की कीमत लगभग 1400 रूपए है और इसका प्रयोग लगभग एक एकड़ से ज्यादा में किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि यह दवाई अब बाजार में भी उपलब्ध है. इस दवा को लेकर अब भी प्रयोग जारी है. वह अब अगले प्रयास में सेब, काजू और बादाम की खेती की सम्भावनाओं पर काम कर रहे हैं. अगर यह प्रयोग सफल हुआ तो हरियाणा में भी काजू-बादाम-सेब-पिस्ता-केसर आदि की खेती हो सकेगी.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top