Navabharat – Hindi News Website
No Comments 6 Views

पाकिस्तान की आतंकवाद को शह देने की नीति बरकरार: भारत

नयी दिल्ली. पाकिस्तान में आतंकवादी संगठन लश्करे तैयबा के सरगना हाफिज सईद को रिहा किये जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारत ने आज कहा कि पाकिस्तान के शासनतंत्र के संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकवादियों को संरक्षण एवं समर्थन देने की अपनी नीति में कोई बदलाव नहीं लाने से एक बार फिर उसका असली चेहरा उजागर हो गया है अौर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में इसे लेकर रोष है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने यहां नियमित ब्रीफिंग में कहा कि पाकिस्तान में ताज़ा घटनाक्रम से प्रतीत होता है कि पाकिस्तानी शासनतंत्र प्रतिबंधित आतंकवादियों को अपनी हरकतों को जारी रखने के लिए खुली छूट देने का प्रयास कर रहा है। पाकिस्तान ने सरकार से इतर इन तत्वों को संरक्षण एवं समर्थन देने की नीति में कोई बदलाव नहीं किया है और उसका असली चेहरा सबके सामने आ चुका है।

प्रवक्ता ने कहा कि यह पाकिस्तान सरकार की जिम्मेदारी है कि वह हाफिज़ सईद जैसे आतंकवादियों के खिलाफ प्रभावी एवं विश्वसनीय कार्रवाई करके अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों का निर्वहन करे। उन्होंने कहा कि भारत और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एक ऐसे आतंकवादी को खुले में घूमने देने और घृणित एजेंडे को जारी रखने की इजाज़त दिए जाने पर रोष है जिसने स्वयं अपने कारनामे कबूल किये हैं और संयुक्त राष्ट्र ने उसे प्रतिबंधित किया हो।

उन्होंने कहा कि हाफिज़ सईद की रिहाई से एक बार फिर इस बात की पुष्टि होती है कि पाकिस्तान की सरकार अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध के दायरे में आने वाले आतंकवादियों को भी कानून के शिकंजे में लाने काे लेकर कतई गंभीर नहीं है।

उन्होंने कहा कि हाफिज़ सईद मुंबई के 2008 के हमलों का ‘प्रधान प्रायोजक’ था। इस हमले में अनेक भारतीयों एवं अंतर्राष्ट्रीय नागरिकों की मौत हुई थी। वह पाकिस्तान के पड़ोसी देशों के खिलाफ अनेक आतंकवादी हमलों का जिम्मेदार है।

यह कहे जाने पर कि अमेरिका के हाल के बयानों से लगता है कि उसका पाकिस्तान पर आतंकवाद के खात्मे का दबाव सिर्फ हक्कानी नेटवर्क को लेकर है ना कि हाफिज़ सईद एवं लश्करे तैयबा को लेकर, प्रवक्ता ने कहा कि वह इस राय से सहमत नहीं हैं। अमेरिकी प्रशासन के पहले के बयानों को देखा जाए तो पता चलेगा कि उसने लश्करे तैयबा और हाफिज़ सईद को लेकर बहुत स्पष्ट राय व्यक्त की है।

बलूचिस्तान के नेता बरहम दाग बुगती द्वारा भारत में शरण लेने का आवेदन दिए जाने की रिपोर्टों के बारे में पूछे जाने पर प्रवक्ता ने कहा कि उन्हें ऐसे किसी आवेदन की कोई जानकारी नहीं है।

शंघाई सहयोग संगठन की रूस के सोची में होने वाली मंत्रिस्तरीय बैठक में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पाकिस्तान के विदेश मंत्री से अलग से मुलाकात की संभावना के बारे में पूछे जाने पर श्री कुमार ने कहा कि विदेश मंत्री का वहां बहुत व्यस्त कार्यक्रम रहने वाला है जिसे अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है। ऐसी किसी मुलाकात का अभी कोई कार्यक्रम तय नहीं है।

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top