Navabharat – Hindi News Website
No Comments 8 Views

मोदी योगी के शासनकाल में ही राम मंदिर बनने की पूरी आशा-ऋतंभरा

खरगोन. कथा वाचक साध्वी ऋतंभरा ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी की दृढ़ता तथा प्रतिबद्धता के मद्देनजर लगता है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण अवश्य होगा. यहां श्रीराम कथा के समापन अवसर पर पत्रकारों से चर्चा में एक प्रश्न के उत्तर पर साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण अवश्य होना चाहिए. यह आस्था का प्रश्न है जो न्यायालय के दायरे में नहीं आता. सभी लोग संविधान का सम्मान करते हैं और इस विषय पर निर्णय आने पर धैर्य से प्रतीक्षा की गई है. उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी की दृढ़ता और प्रतिबद्धता को देखते हुए यह लगता है कि राम मंदिर अतिशीघ्र बनेगा. राम मंदिर मुद्दे पर् रविशंकर की मध्यस्थता को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि उनके प्रयास अच्छे हैं लेकिन समाधान के लिए दोनों पक्षों का मन बनना आवश्यक है. साध्वी ऋतंभरा ने कहा की हजारों मंदिरों को ध्वस्त कर उन पर मस्जिदे बनाए जाने से हिंदुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ हुआ और वे इस विषय पर नहीं जाना चाहतीं लेकिन यह स्पष्ट है कि अधिकांश मुस्लिम भी अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण चाहते हैं. उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के मूल में हमारी चेतना और आस्था जुडी है और इससे जुड़े विभिन्न लोगों के प्रयासों का ऋण तभी उतरेगा तब जब राम मंदिर का निर्माण हो जायेगा. उन्होंने मध्यप्रदेश में दुष्कृत्य को लेकर कानून बनाए जाने को लेकर कहा कि कानून तो मजबूत होना ही चाहिए लेकिन संस्कार उससे ज्यादा मजबूत होने चाहिए. उन्होंने कहा कि किशोरावस्था में हारमोन के बदलाव के चलते होने वाले मानसिक और शारीरिक परिवर्तनों पर युवाओं से खुली चर्चा कर उनसे मैत्रीपूर्ण व्यवहार कर घटनाओं पर काबू पाया जा सकता है. पद्मावती फिल्म पर उन्होंने कहा कि की आदर्श महिला पद्मावती के चरित्र के साथ खिलवाड़ स्वीकार नहीं हो सकता और इतिहास के साथ छेड़छाड़ की इजाजत मनोरंजन जगत को नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि कई बार षड़यंत्र स्वरूप फिल्म के अच्छे बिजनेस के लिये विवाद पैदा किए जाते हैं ताकि इसका मुफ्त में प्रचार प्रसार हो सके. तीन तलाक के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि हर समाज को प्रदूषण से बचना चाहिए और वर्तमान परिस्थितियों के अनुरुप नियम कानून में बदलाव लाने के लिए मंथन करना चाहिए कि उसके लिए फिलहाल सर्वश्रेष्ठ क्या है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top