Navabharat – Hindi News Website
No Comments 15 Views

रातोंरात अचानक हड़ताल वापसी से शिक्षाकर्मी अचंभित

रायपुर.  आधी रात के बाद अचानक हड़ताल वापसी की खबर से दूसरे दिन सुबह अधिकांश शिक्षाकर्मी अचंभित रह गए. आज से स्कूल जॉइन करने के निर्णय के चलते धरना-प्रदर्शन के लिए रायपुर पहुंचे शिक्षाकर्मियों को खाली हाथ लौटना पड़ा. अब शिक्षाकर्मियों की निगाहें सरकार की ओर है.  बीती रात नाटकीय घटनाक्रम में देर रात गिरफ्तार किए गए शिक्षाकर्मियों की रायपुर सेन्ट्रल जेल से रिहाई और आनन-फानन में नि:शर्त छात्रहित में हड़ताल वापसी का निर्णय अधिकांश शिक्षाकर्मियों के गले नहीं उतर रहा है. आमतौर पर हड़ताल वापसी का निर्णय प्रदर्शन स्थल पर सभी शिक्षाकर्मियों की मौजूदगी में लिया जाता रहा है किन्तु अचानक आधी रात बाद नि:शर्त हड़ताल वापसी से शिक्षाकर्मी अचंभित रह गए. संविलियन रैली के लिए रायपुर पहुंचे सैकड़ों शिक्षाकर्मी परिवार के साथ 2 दिसंबर से राजधानी में ही डटे हुए थे. कुछ होटल में तो कई अपने रिश्तेदारों के घर रुके हुए थे. हिंद स्पोर्टिंग मैदान से खदेड़ा तो शिक्षाकर्मियों ने रावणभाठा में धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया. रावणभाठा में अनुमति नहीं मिली तो सोमवार को सैकड़ों की संख्या में शिक्षाकर्मी जीई रोड पहुंच गए और साइंस कॉलेज आॅडिटोरियम के सामने सड़क पर बैठक प्रदर्शन शुरू कर दिया. पुलिस ने बड़ी संख्या में हड़ताली शिक्षाकर्मियों की गिरफ्तारी भी की और उन्हें अस्थायी जेल में रखा गया. मंगलवार सुबह सोशल मीडिया और अखबारों में हड़ताल वापसी की खबर से कई शिक्षाकर्मियों को निराशा हुई. निर्णय के अनुसार शिक्षाकर्मी सुबह ही स्कूल के लिए निराश लौट गए. उनका कहना है कि चुनावी वर्ष में सरकार शिक्षाकर्मियों के हित में जरूर सकारात्मक निर्णय लेगी.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top