Navabharat – Hindi News Website
No Comments 9 Views

बहादुर जवानों को शौर्य पदक देगी छत्तीसगढ़ सरकार

रायपुर.  राष्ट्रपति पुलिस शौर्य पदक व पुलिस शौर्य पदक की तर्ज पर अब छत्तीसगढ़ सरकार भी ड्यूटी के दौरान वीरतापूर्ण प्रदर्शन वाले राज्य पुलिस के जवानों को ‘छत्तीसगढ़ शौर्य पदक’ से नवाजेगी. यह शौर्य पदक छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस पर हर साल एक नवंबर को प्रदान किए जाएंगे. शौर्य पदक से नवाजे गए जवानों को
प्रतिमाह डेढ़ हजार रुपए बतौर मुद्राभत्ता भी मिलेगा.
इसके लिए सरकार ने नियम भी बना दिए हैं.

गृह विभाग के अधिकारियों के मुताबिक छत्तीसगढ़ शौर्य पदक के लिए कोई सीमा नहीं होगी, लेकिन औसतन पांच पदक हर वर्ष प्रदान किए जाएंगे. छत्तीसगढ़ शौर्य पदक उन पुलिस कार्मिकों को प्रदान किया जाएगा, जिन्होंने अपने कर्तव्य निर्वहन के दौरान लोगों के जीवन व संपत्ति की सुरक्षा, अपराधों की रोकथाम तथा अपराधियों की गिरफ्तारी के दौरान वीरतापूर्ण कार्य किए हों. ऐसे पुलिस कार्मियों जिनका नामांकन राष्ट्रपति पुलिस शौर्य पदक व पुलिस शौर्य पदक के लिए केंद्र सरकार को भेजा गया हो, लेकिन जिन्हें ऐसा पदक प्रदान नहीं किया गया है, उनके नाम पर भी छत्तीसगढ़ शौर्य पदक के लिए विचार किया जाएगा.
सीने के बायीं ओर लगा सकेंगे शौर्य पदक
पदक धारण करने के लिए भी नियम बनाए गए हैं. सीने के बायीं ओर शौर्य पदक को धारण किया जाएगा. इसमें लगा हुआ फीता 1.3 इंच चौड़ा और इसमें एक तिहाई भाग में पीले, लाल व नीला रंग होना चाहिए. पदक धारक को दीर्घ दंड या कार्य के प्रति उदासीनता बरतने पर शौर्य पदक वापस लिया जा सकेगा.
शहीदों के परिवारों
को भी पदक
छत्तीसगढ़ शौर्य पदक मरणोपरांत भी प्रदान किया जा सकता है. ऐसे प्रकरणों में पदक से संबद्ध अनुदान व मासिक भत्ता, पदक प्राप्तकर्ता (शहीद) के परिवार को प्रदान किया जाएगा.
क्या होगी प्रक्रिया?
शौर्य पदक के लिए प्रक्रिया भी निर्धारित की गई है. पुलिस अधीक्षक या सेनानी योग्य कार्मिकों की सूची तैयार करेंगे और इसे प्रत्येक वर्ष 30 जुलाई तक संबंधित रेंज आईजी को भेजेंगे. रेंज आईजी प्रस्तावों की जांच कर इसे डीजीपी को भेजेंगे. समिति प्रस्तावों की छानबीन कर चयनित सूची का प्रस्ताव हर वर्ष 31 अगस्त तक राज्य शासन को भेजेगी.
पदक चयन समिति भी
शौर्य पदक के प्रस्तावों की छानबीन और उसे राज्य शासन को भेजने के लिए विशेष आसूचना शाखा नोडल एजेंसी होगी. डीजीपी से प्राप्त प्रस्तावों की जांच छानबीन समिति करेगी. विशेष डीजी या एडीजी (विआसा) की अध्यक्षता में गठित इस समिति में सदस्य के रुप में एडीजी (गुप्तवार्ता), एडीजी (प्रशासन), आईजी (सीएएफ), आईजी (सीआईडी) तथा सदस्य सचिव के रुप में डीआईजी (विआसा) रहेंगे.
शौर्य पदक में अंकित होगा राजकीय वृक्ष ‘साल’
शौर्य पदक कांस्य के बना हुआ सोने का लेप लगा हुआ 1.38 इंच डायमीटर का गोल आकार का होगा. इसके आगे के भाग पर राज्य का प्रतीक(मोनो) और इसके पीछे की तरफ राजकीय वृक्ष ‘साल’ का चित्र अंकित होगा.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top