Navabharat – Hindi News Website
No Comments 12 Views

पढ़ाई के नुकसान की भरपाई के लिए स्कूल का समय एक घंटा बढ़ाया

रायपुर.  स्कूलों में हड़ताल की वजह से 15 दिनों तक बच्चों की पढ़ाई के नुकसान की भरपाई के लिए अब शिक्षकों को अतिरिक्त कक्षाएं लगानी होंगी. स्कूल शिक्षा विभाग ने एक पाली वाले स्कूल का समय एक घंटे बढ़ा दिया है. इतना ही नहीं शनिवार को भी सुबह के बजाय स्कूल पूरे दिन खुलेंगे. वहीं बीती रात हड़ताल की वापसी होने पर शिक्षाकर्मी 15 दिनों बाद स्कूलों में पहुंचे.
शिक्षाकर्मियों की हड़ताल के कारण स्कूलों में पढ़ाई ठप हो गई थी. नियमित शिक्षकों के अलावा नोटिस व चेतावनी के बाद कई शिक्षाकर्मी स्कूल तो लौटे फिर भी पढ़ाई प्रभावित रही. हड़ताल के कारण अधिकांश जिलों ने छमाही परीक्षा टाल दी है. पाठ्यक्रम भी कैलेंडर के अनुसार पूरा नहीं हो पाया है. अब नए सिरे से छमाही परीक्षा की तारीख घोषित की जाएगी. स्कूलों में पाठ्यक्रम पूरा कराने और पढ़ाई के नुकसान की भरपाई के लिए राज्य शासन ने स्कूल का समय एक घंटा बढ़ा दिया है. स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव विकासशील द्वारा सभी कलेक्टरों और जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी पत्र में कहा है कि नई व्यवस्था के तहत एक पाली में संचालित सभी स्कूल अब प्रात: 10 बजे के बजाय प्रात: 9.30 बजे खुलेंगे. वहीं स्कूल की छुट्टी 4.30 बजे होगी. इतना ही नहीं शनिवार को भी सुबह के बजाय स्कूल पूरे दिन सोमवार से शुक्रवार की तरह खुलेंगे. यह व्यवस्था 28 फरवरी 2018 तक लागू रहेगी. इतना ही नहीं पाठ्यक्रम पूरा कराने के लिए अवकाश के दिनों में भी स्कूल का संचालन आवश्यकतानुसार किया जा सकता है. वहीं दो पालियों में लगने वाले स्कूल का समय पूर्ववत रहेगा. इन स्कूलों में अवकाश (शीतकालीन) के दिनों में अतिरिक्त कक्षाएं आयोजित कर पाठ्यक्रमों को पूरा करने के निर्देश जारी किए गए हैं. यह निर्देश सभी सरकारी स्कूलों में लागू होगा.
इधर, हड़ताल की वापसी के पश्चात 15 दिनों के बाद शिक्षाकर्मी स्कूल पहुंचे. जॉइनिंग के बाद शिक्षाकर्मियों ने पढ़ाई भी आरंभ कर दी. शिक्षाकर्मी 20 नवंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे. बीती रात शिक्षाकर्मियों ने नि:शर्त हड़ताल समाप्त की. हालांकि स्कूलों में आज दिनभर शिक्षाकर्मियों के बीच हड़ताल वापसी और मांगों के साथ शासन द्वारा की गई कार्रवाई के संबंध में चर्चाएं होती रहीं. बर्खास्त हुए शिक्षाकर्मी भी स्कूल पहुंचे थे किन्तु बहाली के आदेश के अभाव में जॉइनिंग नहीं हुई.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top