Navabharat – Hindi News Website
No Comments 14 Views

मंदिर-मस्जिद विवाद मामला, सिब्बल को पार्टी से निकालने की मांग

लखनऊ/अयोध्या. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य विधान परिषद के पूर्व सदस्य सिराज मेंहदी ने कपिल सिब्बल को पार्टी से निकालने की मांग की है. मेंहदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा है कि अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय में सिब्बल की दलील से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को जबरदस्त राजनीतिक लाभ मिलने की संभावना पैदा हो गयी है. जब सभी पक्षों ने उच्चतम न्यायालय के फैसले को मानने की बात कही है. पक्षकारों ने न्यायालय के फैसले को जल्द से जल्द आने का बयान दे दिया है, तो सिब्बल ऐसी दलील क्यों दे रहे हैं जिससे भाजपा को सीधा लाभ मिल सकता है. उन्होंने कहा कि सिब्बल के बयान को भाजपा ने मुद्दा बना लिया है. भाजपा को इसका राजनीतिक लाभ न मिले, कपिल सिब्बल को पार्टी से बाहर कर दिया जाना चाहिये. गौरतलब है कि अयोध्या के मंदिर-मस्जिद विवाद में दिवंगत हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी के वकील और कांग्रेस से राज्यसभा सदस्य सिब्बल ने उच्चतम न्यायालय से मामले की सुनवाई जुलाई 2019 के बाद करने का आग्रह किया था. भाजपा ने उनके इस बयान को मुद्दा बना लिया.

मंदिर मस्जिद विवाद के पक्षकार हाजी महबूब अपने बयान से पलटे
उच्चतम न्यायालय में चल रहे ऐतिहासिक रामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद विवाद के पक्षकार हाजी महबूब वकील कपिल सिब्बल की दलील पर दिये बयान से आज पलट गये. हाजी महबूब ने न्यायालय में सिब्बल की उस दलील को गलत करार दिया था जिसमें कहा गया था कि मुकदमें की सुनवाई जुलाई 2019 के बाद की जाय. सिब्बल का कहना था कि इससे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और उसके समर्थक संगठन देश का माहौल खराब कर सकते हैं. हाजी महबूब ने कहा कि सिब्बल का तर्क सही है और मुकदमे के बहाने लोकसभा चुनाव के दौरान किसी संगठन को माहौल खराब करने का मौका नहीं दिया जाना चाहिये. हालांकि कल उन्होंने सिब्बल की दलील को गलत ठहराया था और कहा था कि मामले का जल्द से जल्द निपटारा होना चाहिये. सेन्ट्रल सुन्नी वक्फ बोर्ड के इस मामले में वकील जफरयाब जिलानी और मुश्ताक अहमद खान ने सिब्बल की दलील को उचित बताया था आैर कहा था कि चुनाव में साम्प्रदायिकता भड़काकर इस मसले के बहाने भाजपा और उसके सहयाेगी संगठन लाभ लेने से नहीं चूकेंगे, इसलिए मामले की सुनवाई जुलाई 2019 के बाद हो. सिब्बल के न्यायालय में दी गयी दलील पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आक्रामक रुख की वजह से उनके बयान की चर्चा और बढ़ गयी. मोदी ने गुजरात की जनसभा में सिब्बल के बयान को लेकर कांग्रेस पर जबरदस्त हमला बोला था.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top