Navabharat – Hindi News Website
No Comments 23 Views

रायपुर-बिलासपुर फोरलेन सड़क निर्माण कार्य मार्च-अप्रैल तक

रायपुर.  पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि रायपुर-बिलासपुर फोर-सिक्सलेन सड़क निर्माण के एक तरफ का काम मार्च-अप्रैल 2018 तक पूरा कर लिया जाएगा. इसके अलावा रायपुर से दुर्ग के बीच ट्रैफिक के दबाव को देखते हुए चार फ्लाईओवर को सैद्धांतिक सहमति मिली है, जिसमें डीपीआर बनाने का काम चल रहा है. राजधानी के कमल विहार, भाठागांव, चंगोराभाठा, न्यू राजेन्द्रनगर, अशोकनगर एक्सप्रेस-वे में भी फ्लाईओवर बनाए जाएंगे.  श्री मूणत गुरुवार को राजधानी के न्यू सर्किट हाउस में राज्य सरकार के 14 वर्ष की उपलब्धियों की जानकारी दे रहे थे. उन्होंने राजधानी में बन रहे स्काइवॉक के कारण गिनाते हुए कहा कि शहीद स्मारक से लेकर अंबेडकर अस्पताल और कलेक्ट्रोरेट, जिला न्यायालय, तहसील कार्यालय के चारों तरफ पैदल चलने वालों की संख्या का आकलन करने के बाद ही स्काइवॉक बनाने का निर्णय लिया गया है, ताकि इन संस्थाओं में जाने वाले लोग मल्टीलेवल पार्किंग में वाहन खड़ी कर पैदल जा सके. उन्होंने यह भी कहा कि केवल रायपुर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य नहीं हो रहा है, बल्कि पूरे रायपुर और प्रदेश में विकास कार्य कराए जा रहे हैं. सड़क निर्माण के लिए जो पेड़ काटे गए हैं, विभाग ने उसके लिए 10 गुना राशि राशि वन विभाग को दी है, ताकि पेड़ लगाए जा सके.
श्री मूणत ने बताया कि नक्सल प्रभावित बस्तर अंचल के सुदूरवर्ती क्षेत्रों में अब तक 1890 किलोमीटर सड़कों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है और वामपंथी उग्रवाद प्रभावित इलाकों के लिए केन्द्रीय योजना (एलडब्ल्यूई योजना) के तहत 1326 किलोमीटर सड़कें बनाई जा चुकी हैं. बस्तर अंचल में ही 138 पुलों का निर्माण किया गया है. श्री मूणत ने यह भी बताया कि छत्तीसगढ़ में 1962 किलोमीटर सड़कों को राजमार्ग और 12432 किलोमीटर सड़कों को मुख्य जिला मार्ग घोषित किया गया है. छत्तीसगढ़ में भारत माला परियोजना के तहत 460 किमी को राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में विकसित किया जाएगा. श्री मूणत ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने वर्ष 2007 में दो और वर्ष 2012 में नौ नए जिलों का निर्माण किया, जिनमें कलेक्टोरेट भवन, सरकारी कर्मचारियों के लिए आवास गृह और ट्रांजिट हॉस्टल आदि के निर्माण के साथ-साथ इन सभी जिला मुख्यालयों को राष्ट्रीय राजमार्गों से भी जोड़ा गया.
14 वर्षों में बने 995 बड़े पुल
श्री मूणत ने बताया कि राज्य के उनके विभाग ने विगत 14 साल में 995 नए और बड़े पुलों का निर्माण करवाया. इसके अलावा विभाग द्वारा 6081 विभिन्न शासकीय भवनों का निर्माण किया गया. उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश के सभी 146 विकासखंड मुख्यालयों को सात मीटर चौड़ी सड़कों से जोड़ने की योजना बनाकर अब तक 124 ब्लॉक मुख्यालयों को इससे जोड़ा जा चुका है. सभी प्रमुख शहरों में बाइपास रोड निर्माण की योजना पर काम तेजी से चल रहा है. इसके अंतर्गत 16 बाइपास सड़कों का निर्माण पूरा हो चुका है, जिनमें रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, जगदलपुर, अम्बिकापुर आदि शामिल हैं. शेष शहरों को बाइपास मार्गों से जोड़ने की दिशा में काम चल रहा है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top