Navabharat – Hindi News Website
No Comments 20 Views

भविष्य निधि खाते से राशि नहीं मिलने से कर्मचारी हलाकान, मिला आश्वासन

रायपुर. भविष्य निधि खाते में राशि आहरण पर अघोषित रोक लगा दी गयी है जिस कारण कर्मचारियों को अपनी जमा पूंजी नहीं मिलने से बच्चों की शादी अथवा गंभीर इलाज के लिये दर-दर भटकना पड़ रहा है. भविष्य निधि खाते में कतिपय गड़बडियों के चलते राशि आहरण में दिक्कत होना बताया गया है और इसका खामियाजा कर्मचारियों को भुगतना पड़ रहा है.
अब तक विभिन्न शासकीय विभागों से संधारित जी.पी.एफ. पास बुक में उल्लेखित राशि के आधार पर कर्मचारियों को नियमों के अनुरूप विभिन्न मदों के लिए राशि स्वीकृत की जाती रही है, परन्तु वर्तमान में शासन द्वारा कार्यालय में उपलब्ध सामान्य भविष्य निधि की पास बुक में उल्लेखित राशि को सही नहीं माना जा रहा है, अपितु महालेखाकार द्वारा जारी स्लीप में दर्शायी राशि को आधार मानकर पार्टफाइनल या एडवांस स्वीकृत किया जा रहा है जिससे प्रदेश के नब्बे प्रतिशत कर्मचारियों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि महालेखाकार के लेखा पर्ची भी त्रुटिपूर्ण है. विदित है कि दफ्तरों में उपलब्ध जी.पी.एफ. पास बुक में उल्लेखित राशि एवं महालेखाकार द्वारा प्रत्येक वर्ष जारी लेखा पर्ची में दर्शायी जा रही राशि में लाखों रुपये का अन्तर है, इस संबंध में तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ द्वारा महालेखाकार कार्यालय में धरना-प्रदर्शन कर लेखा पर्ची में सुधार की मांग की गई है. जिस पर महालेखाकार द्वारा बताया गया कि उनके दफ्तर से जारी लेखा पर्ची अंतरिम रहती है, हमारे द्वारा पास बुक से अग्रिम निकालने पर कोई रोक नहीं लगायी गई है. तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष इदरीश खान एवं संभागीय अध्यक्ष उमेश मुदलियार ने बताया कि अग्रिम नहीं निकलने की समस्या को लेकर कोष-लेखा एवं पेंशन की संचालक श्रीमती शिखा राजपूत को ज्ञापन सौंपकर बच्चों की शादी एवं इलाज हेतु पास बुक के आधार पर अग्रिम स्वीकृत करने का अनुरोध किया गया है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top