INS कलवरी राष्ट्र को समर्पित, भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी का उत्कृष्ट उदाहरण | Navabharat - Hindi News Website
Navabharat – Hindi News Website
No Comments 15 Views

INS कलवरी राष्ट्र को समर्पित, भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी का उत्कृष्ट उदाहरण

मोदी ने नौसैनिक पनडुब्बी आईएनएस कलवरी राष्ट्र को किया समर्पित
मुंबई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नौसैनिक पनडुब्बी आईएनएस कलवरी को राष्ट्र को समर्पित किया. लोकार्पण समारोह में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और वाइस एडमिरल गिरिश लूथरा भी मौजूद थे. स्कार्पियन श्रेणी की आईएनएस कलवरी डीजल और इलेक्ट्रिक दोनों से संचालित संघातक पनडुब्बी है जिसका निर्माण फ्रांस की कंपनी के सहयोग से मझगांव गोदी में किया गया है. माना जा रहा है कि यह पनडुब्बी नौसेना की ताकत को न सिर्फ एक अलग सिरे से परिभाषित करेगी बल्कि मेक इन इंडिया कार्यक्रम के लिए भी एक मील का पत्थर साबित होगी. ऐसी पांच और पनडुब्बियां भी भविष्य में नौसेना में शामिल की जानी हैं. आईएनएस कलवरी के नौसेनिक बेड़े में शामिल होने के साथ ही हिंद महासागर में भारतीय नौसेना की रक्षा क्षमताओं में कयी गुना वृद्धि होगी. यह पनडुब्बी कई किस्म की युद्धक तकनीक से लैस है. यह दुश्मन की ओर से दागी जाने वाली निर्देशित मिसाइलों को पलक झपकते हमला कर नष्ट करने की क्षमता रखती है. पानी के अदंर ट्यूब की मदद से इससे एंटी शिप मिसाइलों को को भी सफलतापूर्व दागा जा सकता है. कलवरी का नाम खतरनाक टाइगर शार्क के नाम पर रखा गया है. पिछले 17 वर्षों में यह पहली परंपरागत पनडुब्बी है जिसे नौसेना में शामिल किया जा रहा है. दिलचस्प बात है कि भारत की पहली पनडुब्बी का नाम भी आईएनएस कलवरी था. आठ दिसंबर 1967 को इस नाम की पहली पनडुब्बी को नौसेना में शामिल किया गया था जिसे 31 मई 1996 को रिटायर कर दिया गया था.

आईएनएस कलवरी भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी का उत्कृष्ट उदाहरण
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज नौसैनिक पनडुब्बी आईएनएस कलवरी को राष्ट्र को समर्पित करते हुए इसे भारत और फ्रांस की तेजी से बढ़ती हुयी रणनीतिक साझेदारी का एक उत्कृष्ट उदाहरण बताया है. मोदी ने कहा कि आज का दिन सवा सौ करोड़ भारतीयों के लिए गौरव से भरा हुआ एक महत्‍वपूर्ण दिवस है. मोदी ने कहा, “ मैं सभी देशवासियों को इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर बहुत-बहुत बधाई देता हूं. आईएनएस कलवरी पनडुब्बी को राष्ट्र को समर्पित करना मेरे लिए बहुत सौभाग्य का अवसर है. मैं देश की जनता की तरफ से भारतीय नौसेना को भी अनेक-अनेक शुभकामनाएं देता हूं.” प्रधानमंत्री ने कहा कि करीब दो दशक के अंतराल के बाद भारत को इस तरह की पनडुब्बी मिल रही है. मोदी ने इस अवसर पर कहा कि नौसेना के बेड़े में कलवरी का जुड़ना रक्षा क्षेत्र में हमारी तरफ से उठाया गया एक बहुत बड़ा कदम है. इसे बनाने में भारतीयों का पसीना लगा है, भारतीयों की शक्ति लगी है. ये मेक इन इंडिया का उत्तम उदाहरण है. मोदी ने कहा, “मैं कलवरी के निर्माण से जुड़े हर श्रमिक, हर कर्मचारी का भी हार्दिक अभिनंदन करता हूं. कलवरी के निर्माण में सहयोग करने के लिए मैं फ्रांस को भी बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं.” मोदी ने कहा कि कलवरी की शक्ति टाइगर शार्क की शक्ति जैसी है जो हमारी भारतीय नौसेना को और मजबूत करेगी. गौरतलब है कि यह वर्ष भारतीय नौसेना की सबमरीन आर्म का स्वर्ण जयंती वर्ष है. गत सप्ताह ही सबमरीन आर्म को प्रेसिडेंट्स कलर से सम्मानित किया गया है.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top