Navabharat – Hindi News Website
No Comments 6 Views

एचआईव्ही संक्रमित महिलाएं अपने बच्चे को अवश्य कराएं स्तनपान

रायपुर. एचआईव्ही संक्रमित महिलाओं को अब अपने बच्चे को जन्म से छह माह तक स्तनपान अवश्य करना चाहिए. गर्भवती माताओं को प्रथम तिमाही में ही एचआईव्ही की जांच भी कराना चाहिए. यदि वे एचआईव्ही संक्रमित है, तो घबराने की आवश्यकता नहीं हैं. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि एचआईव्ही संक्रमित गर्भवती माताओं को आजीवन एआरटी की दवा भी लेनी चाहिए. ऐसा करने से गर्भ में पल रहे बच्चे को एचआईव्ही एड्स होने की संभावना लगभग समाप्त किया जा सकता है. एचआईव्ही संक्रमित महिलाओं का प्रसव शासकीय अस्पताल में ही कराना चाहिए, इससे माता व शिशु की जीवन रक्षा हो सकती हैं. गर्भवती महिलाओं को शासकीय स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सक व परामर्श दाता के लगातार सम्पर्क में होना चाहिए. एचआईव्ही संक्रमित महिलाओं से पैदा हुए नवजात शिशु को जन्म से छह से 12 सप्ताह तक एआरटी की दवा भी पिलानी चाहिए. इन प्रक्रियाओं से प्रसव पश्चात नवजात शिशु एचआईव्ही संक्रमण मुक्त पैदा हो सकता है. गतवर्षों में 213 एचआईव्ही संक्रमित गर्भवती महिलाओं ने एचआईव्ही संक्रमण मुक्त बच्चे को जन्म दिया.

LEAVE YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to Top